भगवामय हुआ यूपी, योगी ने रचा इतिहास , जानें hot सीट का क्या रहा जनादेश

भगवामय हुआ यूपी, योगी ने रचा इतिहास , जानें hot सीट का क्या रहा जनादेश

उत्तर प्रदेश (UP Election Result) में सात चरणों में हुए मतदान के बाद आज वोटों की गिनती हो रही है. यूपी चुनाव परिणाम (UP Vidhan Sabha Chunav Parinam) के शुरुआती रुझनों में राज्य में एक बार फिर से भाजपा की सरकार बनती दिख रही है. अगर ये रुझान नतीजों में तब्दील होते हैं तो भाजपा (BJP) लगातार दूसरी बार सरकार बनाकर इतिहास रच देगी. फिलहाल, यूपी विधानसभा चुनाव (uttar pradesh assembly vidhan sabha chunav ke natije) के नतीजे आने लगे हैं. कहां से कौन हारा और कौन उम्मीदवार जीता, इसके नतीजों के लिए हमारे साथ जुड़े रहें.

गौतमबुद्ध नगर विधानसभा जेवर से भाजपा प्रत्याशी ठाकुर धीरेंद्र सिंह तकरीबन 57000 वोटों से जीतेदेवरिया के बरहज विधानसभा क्षेत्र से BJP के दीपक मिश्रा चुनाव जीते.-रामपुरखास विधानसभा से कांग्रेस प्रत्याशी आराधना मिश्रा उर्फ मोना की जीत-योगी सरकार में बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश चंद्र द्विवेदी इटवा सीट से हारे-ललितपुर सदर सीट से बीजेपी के प्रत्याशी रामरतन कुशवाहा एक लाख वोटों के अंतर से चुनाव जीते.-राजनाथ स‍िंह के बेटे और नोएडा से बीजेपी उम्‍मीदवार पंकज सिंह डेढ़ लाख वोटों से जीते.-स्वामी प्रसाद मौर्य फाजिलनगर से चुनाव हारे-रामपुर के चमरौआ विधानसभा से सपा प्रत्याशी नसीर खां जीते-स्वार विधानसभा से सपा प्रत्याशी अब्दुल्ला आज़म जीते-लखीमपुर खीरी के पलिया विधानसभा से बीजेपी के रोमी साहनी 39 हजार वोटों से जीते.-लखनऊ कैंट से भाजपा के ब्रजेश पाठक जीते.-मथुरा की गोवर्धन सीट पर भाजपा उम्मीदवार प्रत्याशी ठा. मेघश्याम सिंह जीते.-देवरिया सीट से BJP कैंडिडेट शलभ मणि त्रिपाठी जीते, सपा के अजय प्रताप सिंह को दी मात

पिछले चुनाव की तुलना में भाजपा को महज करीब दो से तीन फीसदी वोट शेयर का फायदा हुआ है. इस बार भाजपा को 42.4 फीसदी वोट मिले हैं, जबकि सपा को फायदा हुआ है. सपा के वोट शेयर में बड़ा इजाफा हुआ है और यह आंकड़ा 31.6 पर चला गया है. बसपा को पिछली बार से भी अधिक नुकसान हुआ है, क्योंकि मायावती की पार्टी का वोट शेयर इस बार 12.7 फीसदी दर्ज किया गया है. इसी तरह कांग्रेस के वोट शेयर में भी गिरावट आई है और 2.43 फीसदी दर्ज किया गया है. इससे स्पष्ट होता है कि कांग्रेस-बसपा के वोट शेयर गिरने से सपा को फायदा हुआ है.

योगी आदित्यनाथ अगर चुनाव के बाद दोबारा मुख्यमंत्री बनते हैं तो वह सामान्य निर्वाचन के बाद लगातार दूसरी बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने वाले पहले व्यक्ति होंगे. भाजपा ने वर्ष 2017 में प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनाई थी. पिछले विधानसभा चुनाव में इस पार्टी को 403 में से 312 सीटों पर जीत हासिल की थी. वहीं, उसके सहयोगियों अपना दल (सोनेलाल) को नौ और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को चार सीटें मिली थी. भाजपा ने इस बार अपना दल (सोनेलाल) और निषाद पार्टी के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ा, जबकि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस बार राष्ट्रीय लोक दल तथा सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी समेत कई क्षेत्रीय दलों से गठबंधन किया है.

Advertisements