Survey:सर्वे ने अखिलेश के सपनों पर फेरा पानी, यूपी में बीजेपी की प्रचंड जीत में किसान आंदोलन का नहीं अटकेगा रोड़ा जानिए कैसे?

नई दिल्ली। अब तक ये लग रहा था कि यूपी के विधानसभा चुनावों में पश्चिमी यूपी में बीजेपी को किसान आंदोलन की वजह से तगड़ा झटका लग सकता है। अब एक सर्वे के मुताबिक ऐसा नहीं होने जा रहा। किसान आंदोलन का ज्यादा असर इस सर्वे के नतीजे नहीं बता रहे हैं। सर्वे के मुताबिक पश्चिमी यूपी में किसान आंदोलन या किसानों की नाराजगी बहुत कम है। ये सर्वे ‘डिजाइन बॉक्स्ड’ नाम की एजेंसी ने जी न्यूज के लिए किया है। अब तक के सबसे बड़े सैंपल साइज यानी 11 लाख लोगों के बीच ये सर्वे हुआ है। सर्वे के नतीजे से एजेंसी का दावा है कि किसान आंदोलन का असर सिर्फ 19 फीसदी लोग ही मानते हैं। इस सर्वे के नतीजों से सपा और आरएलडी के गठबंधन को झटका लग सकता है। सर्वे के नतीजे ये भी बताते हैं कि पश्चिमी यूपी के किसानों की मदद से यूपी में सरकार बनाने का अखिलेश यादव का ख्वाब शायद ही पूरा होगा।

सर्वे में पश्चिमी यूपी के बारे में कहा गया है कि यहां बीजेपी को 33 से 37 सीटें मिलेंगी। जबकि, सपा को भी 33 से 37 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। सर्वे के मुताबिक पश्चिमी यूपी में बीएसपी को जोरदार झटका लगेगा और उसे सिर्फ 2 से 4 सीट ही मिल सकती हैं। पूर्वांचल में भी काफी किसान हैं। सर्वे में पूर्वांचल के बारे में कहा गया है कि बीजेपी को इस इलाके से 53 से 59 सीटें मिल सकती हैं। वहीं, सपा को 39 से 45 सीटें, बीएसपी को 2 से 5 और कांग्रेस को 1 से 2 सीट इस सर्वे के मुताबिक मिलने वाली हैं।

Advertisements

डिजाइन बॉक्स्ड के सर्वे का कुल लब्बोलुआब ये है कि बीजेपी को 2017 के मुकाबले सीटों का नुकसान तो होगा, लेकिन वो दोबारा सरकार बना लेगी। सर्वे के नतीजों के मुताबिक यूपी में बीजेपी गठबंधन को 245 से 267 सीटें मिल सकती हैं।

सपा गठबंधन को इस सर्वे में कुल 125 से 148 सीटें मिली हैं। वहीं, बीएसपी को 5 से 9 और कांग्रेस को 3 से 7 सीटें सर्वे में मिलती दिख रही हैं। बता दें कि यूपी विधानसभा में 403 सीटें हैं। इसमें से बहुमत के लिए 202 सीटों की जरूरत होगी। साल 2017 के चुनाव में बीजेपी ने यूपी में 312 सीटें अकेले दम पर हासिल की थीं। सहयोगियों के साथ उसकी संख्या 325 सीटों की थी।

Advertisements