UP Assembly Election: BJP का मास्टर स्ट्रोक, समाजवादी पार्टी के गढ़ में इस बार आसान नहीं मुकाबला, इन कारणों से बढ़ी अखिलेश यादव की चुनौती

UP Polls: समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत मैनपुरी से की थी और अब यहां के मैदान में अखिलेश यादव पहली बार विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.

UP Elections 2022: मैनपुरी को समाजवादी पार्टी का गढ़ माना जाता है. लेकिन, इस बार उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में सपा के इस पारंपरिक गढ़ में सत्ताधारी बीजेपी के साथ कड़ा मुकाबला होने जा रहा है. मैनपुरी जिले में चार विधानसभा सीटें हैं- मैनपुरी, बोनगांव, किशनी और करहल. इन सभी सीटों पर इस वक्त समाजवादी पार्टी का कब्जा है.

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत मैनपुरी से की थी और अब यहां के मैदान में अखिलेश यादव पहली बार विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. समाजवादी पार्टी ने वर्तमान विधायक राजू यादव, ब्रजेश कठेरिया, आलोक शाक्या को मैनपुरी सदर, किशनी और बोनगांव विधानसभा सीट से उतारा है. गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव करहल सीट से चुनाव मैदान में हैं, जबकि बीजेपी ने अखिलेश यादव के खिलाफ करहल से सत्यपाल सिंह बघेल को अपना प्रत्याशी बनाया है.

ऐसा मानते हैं कि पहले की तरह इस बार एक पक्षीय मुकाबला शायद ही हो, क्योंकि सपा प्रत्याशी के खिलाफ बीजेपी कड़ी चुनौती देगी. शुक्ला ने आगे बताया- “बीजेपी का अच्छा असर है. इससे पहले सपा प्रत्याशी के लिए यहां से जीत काफी आसान होती थी, लेकिन मैं यह कह सकता हूं कि समाजवादी पार्टी और बीजेपी के बीच कड़ा मुकाबला होने जा रहा है.”

जबकि, 56 साल के दामोदर कश्यप ने इस बात पर जोर देते हुआ कहा कि बीजेपी इस बार समाजवादी पार्टी को चुनौती दे रही है, जो पहले कभी देखने को नहीं मिला. उन्होंने कहा- हम इस बात से खुश हैं कि मुफ्त में योगी सरकार की तरफ से राशन दिया जा रहा है. माफियाराज और गुंडागर्दी खत्म हो गया है.

Advertisements