Covaxin बनाने वाले Dr Krishna Ella की कहानी, जब मां ने डांटा था- लौट आओ देश, फिर खड़ी की ये कंपनी,

डॉ इल्ला भारत लौट आए और उन्होंने अपनी पत्नी Suchitra Ella के साथ मिलकर 1996 में भारत बायोटेक कंपनी की स्थापना की. इस बार गणतंत्र दिवस पर पति-पत्नी दोनों को पद्मभूषण सम्मान से नवाजा गया है. हैदराबाद में हेडक्वार्टर वाली यह कंपनी मुख्य तौर पर बीमारियों के लिए वैक्सीन डेवलप करती है.

  • मां के कहने पर अमेरिका से लौटे थे डॉ इल्ला
  • कई बीमारियों के लिए वैक्सीन बना चुकी है कंपनी

कोरोना महामारी के बाद से हर किसी को भारत बायोटेक (Bharat Biotech) कंपनी का नाम मालूम पड़ गया है. कोरोना का पूरी तरह से स्वदेशी वैक्सीन (Covaxin) तैयार करने वाली यह कंपनी पहले भी कई बड़ी उपलब्धि हासिल कर चुकी है. इस कंपनी की शुरुआत की कहानी भी कम रोचक नहीं है. कंपनी के फाउंडर चेयरमैन Dr Krishna Ella को इस साल पद्मभूषण (Padma Bhushan) से नवाजा गया है. उन्होंने मां से पड़ी डांट के चलते यह कंपनी शुरू की, जो आज दुनिया से कई बीमारियों का समूल नाश करने में जुटी हुई है.

अमेरिका में बना रहे थे साइंटिस्ट का करियर

कुछ साल पहले Dr Ella ने एक इंटरव्यू में इस कहानी का जिक्र किया था. दरअसल वह उच्च शिक्षा के लिए अमेरिका चले गए थे. वहां उन्होंने University of Wisconsin-Madison से पीएचडी करने के बाद Medical University of South Carolina में रिसर्च फैकल्टी के रूप में काम करने लगे थे. डॉ इल्ला अमेरिका में ही Molecular Biology में साइंटिस्ट का करियर बनाने के इरादे के साथ चल रहे थे. यही समय था, जब उन्हें मां से डांट पड़ी.

हेपेटाइटिस-बी और पोलियो वैक्सीन ने दी पहचान

इस बात पर डॉ इल्ला भारत लौट आए और उन्होंने अपनी पत्नी Suchitra Ella के साथ मिलकर 1996 में भारत बायोटेक कंपनी की स्थापना की. इस बार गणतंत्र दिवस पर पति-पत्नी दोनों को पद्मभूषण सम्मान से नवाजा गया है. हैदराबाद हेडक्वार्टर वाली यह कंपनी मुख्य तौर पर बीमारियों के लिए वैक्सीन डेवलप करती है. कोरोना वायरस के लिए कोवैक्सीन बनाने से पहले भी कंपनी कई घातक बीमारियों का टीका बना चुकी है. कंपनी ने सबसे पहले अक्टूबर 1998 में हेपेटाइटिस-बी के लिए Revac-B वैक्सीन तैयार की. इसकी कीमत उस समय उपलब्ध सबसे सस्ते वैक्सीन से भी 25 फीसदी कम थी.

अभी कंपनी के पास इतनी बीमारियों के लिए वैक्सीन

भारत बायोटेक को कम दाम में वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए जाना जाता है. कंपनी पोलियो के लिए भी ओरल ड्रॉप वैक्सीन तैयार कर चुकी है. बाद में भारत बायोटेक ने बच्चों को डायरिया की बीमारी से बचाने वाली वैक्सीन Rotavac का डेवलपमेंट किया. अभी कंपनी के पोर्टफोलियो में टाइफॉयड, जापानी बुखार, इंफ्लुएंजा जैसी बीमारियों की वैक्सीन शामिल हैं. कंपनी के पास करीब 35 बीमारियों के लिए वैक्सीन के अलावा करीब 140 दवाओं के पेटेंट हैं

Advertisements