जानें क्यों सोनू सूद की बहन मालविका को करना पड़ा हार का सामना, हाथ नहीं आई मोगा सीट

जानें क्यों सोनू सूद की बहन मालविका को करना पड़ा हार का सामना, हाथ नहीं आई मोगा सीट

पंजाब चुनाव जहां बड़े-बड़े दिग्गजों के लिए भुलाने वाला सपना साबित हुआ. वहीं इस बार अपनी किस्मत आजमा रही अभिनेता सोनू सूद की बहन मालविका सूद को भी हार का सामना करना पड़ा. इस बार कांग्रेस पार्टी ने अपने सीटिंग विधायक को टिकट न देकर अभिनेता सोनू सूद की बहन पर मोगा सीट से दाव खेला पर इस बार के परिणाम ने कांग्रेस पार्टी को हिला कर रख दिया.

इस बार कांग्रेस आलाकमान में अभिनेता सोनु सूद की लोकप्रियता और कोरोना में उनके द्वारा किए गए कामों को पंजाब में भुनाने की कोशिश की. पर कामयाब नहीं हो पाए. कांग्रेस पार्टी ने यही सोचकर सोनू सूद को आगे किया की उनके चेहरे पर वोट बटोर लिए जाएंगे. पर कांग्रेस का यह पैंतरा भी काम नहीं आया. भले ही इस पूरे इलेक्शन प्रचार के दौरान सोनू सूद खुद को कांग्रेस पार्टी से अलग करते दिखे और बताया की मैं अपनी बहन के प्रचार के लिए आया हूं न कि कांग्रेस पार्टी के लिए, लेकिन कांग्रेस पार्टी उनकी लोकप्रियता का भरपूर फायदा उठाना चाहती थी.

मोगा सीट पर हमेशा से कांग्रेस पार्टी का दबदबा रहा पर इस बार कांग्रेस ने पेशे से कंप्यूटर इंजीनियर मालविका सूद को मौका दिया मालविका मोगा शहर में एक कोचिंग सेंटर चलाती हैं. इसके साथ-साथ वह सोशल वर्क भी करती हैं.

इस बार के पंजाब परिणामों ने कांग्रेस पार्टी आंतरिक कलह और पार्टी के कुप्रबंध की पोल खोलकर रख दी है, अब देखना दिलचस्प होगा कि यहा से आगे कांग्रेस पार्टी का आंकलन और पार्टी को चेहरे को लेकर क्या फैसला होता है.