‘शारीरिक भूख के बजाए कुछ ऐसे फेवर मांगते हैं ग्राहक’, मशहूर सेक्स वर्कर का खुलासा

‘शारीरिक भूख के बजाए कुछ ऐसे फेवर मांगते हैं ग्राहक’, मशहूर सेक्स वर्कर का खुलासा

दुनिया में एडल्ट इंडस्ट्री का भी काफी बड़ा बिजनेस है। चाहे वो फिर वो एस्कॉर्ट सर्विस हो गया फिर पोर्न फिल्म इंडस्ट्री। अब ऐसे ही यूएस की एक मशहूर सेक्स वर्कर ने चौंकाने वाला खुलासा करते हुए बताया कि उसके पास आने वाले क्लाइंट उससे कैसे-कैसे फेवर मांगते हैं। एस्कॉर्ट ने बताया कि मेरे पास ऐसे-ऐसे पुरुष आते हैं, जो महिलाओं से बाहर पूछने में डरते हैं।

आदमी अपने शारीरिक सुख की इच्छा पूरी करने के लिए सेक्स वर्कर्स के पास पहुंते हैं, लेकिन अमेरिका के नेवादा में कानूनी वेश्यालय ( legal brothel) में काम करने वाली रोक्सैन प्राइस (Roxanne Price) ने खुलासा किया है कि ज्यादातर वो लोग उसकी सर्विस का यूज कर रहे हैं, जो उन महिलाओं से पूछने में डरते हैं, जिनके साथ वे काम करते हैं। इस हफ्ते अपनी ऑफिशियल साइट पर जारी एक ब्लॉग पोस्ट में रोक्सैन प्राइस ने बताया कि पुरुषों को मना करने का डर या फिर उत्पीड़न का आरोप लगाया जाता है अगर वो अपनी लाइफ में महिलाओं पर महसूस होने वाले किसी भी क्रश पर काम करते हैं।

2017 में ‘लवर ऑफ द ईयर’ से सम्मानित सेक्स वर्कर रोक्सैन प्राइस ने कहा कि कई ग्राहक गर्लफ्रेंड एक्सपीरियंस (GFE) के लिए पे फॉर प्ले एनकाउंटर मांगते हैं, जहां सेक्स वर्कर क्लाइंट को केवल कामुक उत्तेजना से कहीं ज्यादा एक्सपीरियंस देती हैं। इसका मतलब है कि एस्कॉर्ट ऐसा बिहेव करती हैं जैसे वे एक डेट पर हों या अपने लवर के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड कर रही हों।

डेली स्टार यूके की रिपोर्ट के मुताबिक नेवादा की सेक्स वर्कर ने कहा, ‘एक क्लाइंट सेक्स वर्कर के लिए खुल सकता है और अपने अंदर गहरी बैठी हुई कुंठाओं को उतार सकता है, अपनी सबसे तीव्र इच्छाओं को जाहिर करते हुए सुरक्षित रूप से अपने कामोत्तेजक में लिप्त हो सकता है। रोक्सैन के अनुसार ऐसा इसलिए है क्योंकि पुरुष रोमांटिक रूप से आगे बढ़ने से डरते हैं। रोक्सैन ने बताया कि MeToo मूवमेंट (जिसमें महिलाओं ने यौन शोषण और यौन उत्पीड़न के आरोपों को पब्लिक किया) के बाद उसकी गर्लफ्रेंड एक्सपीरियंस की बुकिंग में काफी इजाफा हुआ।

रोक्सैन ने अपने ब्लॉग में लिखा कि सहकर्मियों के बीच यौन संबंध, इंटरऑफिस डिलिअंस बेहद आम हैं, लेकिन आज उतना नार्मल नहीं हैं, जितने कि वायरल MeToo आंदोलन से पहले था, जिसने यौन शोषण के आरोपों को प्रचारित किया और 2010 के अंत में तूफान खड़ा कर दिया। रोक्सैन ने बताया कि जैसे-जैसे वर्किंग प्लेस यौन उत्पीड़न की परिभाषा व्यापक होती जा रही है, पुरुष सहकर्मी के साथ संबंध बनाने के लिए आशंकित होते जा रहे हैं।

रोक्सैन ने दावा करते हुए कहा कि ऐसे पुरुष अपने करियर को जोखिम में डालने के बजाय वेश्यालय जाना और सेक्स के लिए भुगतान करना पसंद करेंगे। रोक्सैन ने कहा, “मेरे हाल के अनुभव में मैंने कई पेशेवर पुरुषों को देखा है जिन्होंने एक सहकर्मी के साथ अपने मौके लेने के बजाय एक सेक्स वर्कर को गले लगाने का फैसला किया है।”