techparimal news
+

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहला टी-20 मुकाबला 20 सितंबर को खेला गया जिसमें ऑस्ट्रेलिया ने 4 विकेट से जीत हासिल करते हुए सीरीज में 1-0 से बढ़त बना ली है। टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम ने 20 ओवर में 6 विकेट के नुकसान पर 208 का बड़ा लक्ष्य सामने रखा। जवाब में ऑस्ट्रेलियाई टीम के बल्लेबाजों ने भारतीय गेंदबाजों की काफी धुनाई की और 19.2 ओवर में ही मैच जीत लिया।

भारत की तरफ से सीनियर गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार और हर्षल पटेल बेहद ही महंगे साबित हुए जिसके कारण भारत के हाथों से यह जीत फिसल गई। दोनों गेंदबाजों ने 4-4 ओवर में क्रमशः 52 और 49 रन दिए। भारतीय टीम को विकेट की दरकार थी लेकिन ऐसा होता दिख नहीं रहा था जिसके कारण कप्तान रोहित काफी परेशान थे।

लक्ष्य का पीछा कर रही ऑस्ट्रेलियाई टीम 11.2 ओवर में 2 विकेट खोकर 122 रन के स्कोर पर थी। उमेश यादव ने एक गेंद फेंकी जो स्टीव स्मिथ के बल्ले से एज लगकर विकेटकीपर दिनेश कार्तिक के दस्तानों में गिरी। इसपर अंपायर ने उन्हें नॉटआउट करार दिया लेकिन भारतीय टीम DRS के लिए गई और थर्ड अंपायर ने स्मिथ को आउट दिया। तभी उसी ओवर की आखिरी गेंद पर ग्लेन मैक्सवेल के बल्ले से भी एज लगा जो कार्तिक के दस्तानों में गिरा। इस बार भी अंपायर ने उन्हें आउट करार नहीं दिया और टीम को थर्ड अंपायर की तरफ रुख करना पड़ा और मैक्सवेल आउट दिए गए।

इसके बाद रोहित काफी निराश नजर आए और उन्होंने मजाक में कार्तिक का गला दबाया।

रोहित शर्मा के इस कारनामे की खूब चिकाही हो रही है। सोशल मीडिया पर लोग भिन्न-भिन्न प्रकार से मज़े ले रहे हैं। एक यूज़र ने तो यहां तक लिख दिया की रोहित शर्मा दिनेश कार्तिक की गूजी कोलने गए थे, यानी नाक साफ़ करने गए थे। दीपक नाम के यूज़र लिखते हैं की रोहित शर्मा दिनेश कार्तिक से शायद यह कह रहे होने की यार दिनेश तू डीआरएस को दिनेश कार्तिक रिव्यु सिस्टम क्यों नहीं बना देता।

विशाल नाम के यूज़र लिखते हैं की दिनेश कार्तिक और रोहित शर्मा ब्रोमांस करते नज़र आये हैं। हर्ष पटेल लिखते हैं अरे ये नॉटी-नॉटी क्या हो रहा है रोहित भाई का खुले आम। हर्षित लिखते हैं की, रोहित शर्मा का यह आक्रामक व्यवहार कुछ ज्यादा ही हो गया है। दिनेश कार्तिक एक सीनियर खिलाड़ी हैं, उन्हें इनकी इज़्ज़त करनी चाहिए। कुछ दिनों पहले उन्होंने भुवनेश्वर कुमार की भी बेइज़्ज़ती की थी।

अगला मैच 23 अगस्त को खेला जाना है ऐसे में भारतीय टीम को जीतने के लिए एक नयी रणनीति के साथ मैदान में उतरना होगा। गेंदबाज़ी पर ख़ास ध्यान देने की जरूरत है।

Advertisements