20 मार्च की शाम 6 बजकर 53 मिनट पर कुछ ऐसा होता हैं कि यह आम लड़का ट्विटर का हीरो बन जाता हैं, हरभजन सिंह से लेकर हरीश रावत और अनुराग ठाकुर ने दी शुभकामनायें

20 मार्च की शाम 6 बजकर 53 मिनट पर कुछ ऐसा होता हैं कि यह आम लड़का ट्विटर का हीरो बन जाता हैं, हरभजन सिंह से लेकर हरीश रावत और अनुराग ठाकुर ने दी शुभकामनायें

उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले का का 19 वर्षीय प्रदीम मेहरा (Pradeep Mehra) इस समय ट्वीटर पर सनसनी बन चुका है। वह नोएडा सेक्टर 16 के मैकडॉनल्ड्स (McDonald’s) में काम करने के साथ ही भारतीय सेना में भर्ती की तैयारी के लिए दाैड़ लगाता है। यह उसका डेली रूटीन है। पर 20 मार्च की शाम 6 बजकर 53 मिनट पर कुछ ऐसा होता है कि यह आम लड़का ट्विटर पर हीरो बन जाता है।

प्रसिद्ध क्रिकेटर हरभजन सिंह, केंद्रीय राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर, वरिष्ठ कांग्रेस नेता हरीश रावत, लगे रहो मुन्नाभाई व थ्री इडियट्स के लिए नेशनल अवार्ड विजेता सिंगर-राइटर स्वानंद किरकिरे, कृष्ण की भूमिका निभा चुके अभिनेता स्वपनिल जोशी, इंडयिन यूथ कांग्रेस के नेशनल प्रेसिडेंट श्रीनिवास, प्रसिद्ध आरजे, आइएएस, देश के वरिष्ठ पत्रकार और न जाने कितनी हस्तियों ने प्रदीप को शुभकामनाएं दी हैं और यह सिलसिला जारी है। यह लिस्ट लंबी होती जा रही है।

दरअसल, पूर्व पत्रकार व फिल्म निर्माता विनोद कापड़ी को 19 मार्च की रात 12 बजे नोएडा की सड़क पर एक लड़का पीठ पर बैग लेकर दौड़ लगाते हुए मिला। वह गाड़ी धीरे कर उसे लिफ्ट आफर करते हैं। पर वह मना कर देता है। उसके बाद कापड़ी से बात करते हुए जो लिफ्ट लेने से मना करने का कारण सामने आया उसे सुनकर सभी उसे सलाम करने लगते हैं।वह लड़का बताता है कि उसका नाम प्रदीप मेहरा है। वह उत्तराखंड के जिला अल्मोड़ा का रहने वाला है और उसकी उम्र 19 साल है। वह नोएडा सेक्टर 16 के मैकडॉनल्ड्स (McDonald’s) में काम करता है। उसकी शिफ्ट रात 11 बजे खत्म होती है। उसके बाद वह प्रतिदिन बरोला अपने कमरे तक 10 किमी इसी तरह से दौड़ते हुए जाता है।

प्रदीप सेना में भर्ती होना चाहता है। उसे सुबह के साथ तैयारी का मौका नहीं मिलता इसलिए वह रात में इसी तरह से अपनी प्रैक्टिस करता है। पीहू फिल्म के निर्देशक कापड़ी खुद उत्तराखंड पिथौरागढ़ जिले के मूल निवासी हैं और उनके पिता सेना में रहे हैं। प्रदीप के सेना में जाने के जज्बे को देखकर व कुमाऊंनी में बात करने लगते हैं और घर परिवार के बारे में पूछते हैं।कुमाऊंनी में प्रदीप बताता है कि उसकी मां की तबीयत खराब है, उनका इलाज चल रहा है। मां हास्पिटल में भर्ती हैं। वह अपने बड़े भाई के साथ रहता है।

गाड़ी के बगल दौड़ लगा रहे प्रदीप से कापड़ी कहते हैं तुम तो वायरल होने वाले हो तो प्रदीप कहता है कि होने दो, दौड़ लगा रहा हूं कोई गलत काम थोड़े न कर रहा। इसके बाद उसे खाना ऑफर करते हैं।जब उसे खाना आफर किया जाता है तो वह बताता है कि उसके भाई प्राइवेट जॉब में हैं, उनकी नाइट ड्यूटी है। वह दौड़ पूरी कर घर पहुंचेगा तो खाना बनाएगा। उसे दोनों लोगों का खाना बनाना है। मैं खाना खा लूंगा पर भाई भूखा रह जाएगा।

Advertisements