जानिए क्यों:-PM को काला झंडा दिखाने वाली कांग्रेस नेता ने 2 लोगों से ख़ुद पर चलवा ली गोली

क्या मामला है?

16 दिसंबर, 2021 को पीएम नरेंद्र मोदी पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का लोकार्पण करने सुलतानपुर पहुंचे थे. इंडिया टुडे से जुड़े आलोक श्रीवास्तव की रिपोर्ट के मुताबिक, मोदी की जनसभा में रीता यादव ने काला झंडा दिखाया था. योगी-मोदी मुर्दाबाद के नारे लगाए थे. इस साल 3 जनवरी 2022 को उन्होंने पुलिस को शिकायत दर्ज कराई थी. कहा था कि लखनऊ-वाराणसी बाईपास ओवर ब्रिज पर अज्ञात बदमाशों ने जानलेवा हमला किया. इस दौरान उनके पैर में गोली भी लगी थी, जिसके बाद घायल अवस्था में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इस हमले को लेकर रीता ने अज्ञात लोगों पर आरोप लगाया था. पुलिस ने केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू की।

पुलिस ने क्या दावा किया है?

पुलिस का दावा है कि रीता यादव ने अपने जानने वाले पूर्व ग्राम प्रधान माधव यादव के साथ मिलकर यह साजिश रची, ताकि आगामी विधानसभा चुनाव में उन्हें कांग्रेस से टिकट मिल सके. पुलिस के अनुसार, रीता यादव ने अपने ड्राइवर मोहम्मद मुस्तकीम, सूरज यादव, माधव यादव और एक अज्ञात व्यक्ति के साथ मिलकर अपने ऊपर गोली चलवाई थी. पुलिस ने ये भी बताया की ये लोग रीता यादव के साथ गाड़ी में उनके साथ ही आए थे और घटना को अंजाम देकर फरार हो गए.

पुलिस ने साजिश रचने के मामले में रीता यादव समेत तीन लोगो को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. पकड़े गए आरोपियों के पास से पुलिस ने हथियार भी बरामद होने का दावा किया है.

रीता यादव पहले समाजवादी पार्टी में थीं, लेकिन बाद में वे अमेठी में प्रियंका गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल हो गई थीं.

Advertisements