आखिर क्यों गिरफ्तार हुए कैराना से सपा उम्मीदवार नाहिद हसन?

विशेष अदालत से भगोङा घोषित कैराना से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार नाहिद हसन ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है. उन्हें अभी कोर्ट में पेश किया जा रहा है. 

नाहिद हसन पर कई मामले हैं दर्ज

कई बीजेपी नेताओं ने समाजवादी पार्टी के नाहिद हसन को दोबारा टिकट दिए जाने पर सवाल भी खड़े किए हैं. यही नहीं, उनपर जमीन खरीदने के मामले में धोखाधड़ी का भी केस दर्ज है, एवं शामली जिले की विशेष अदालत से उन्हें भगोड़ा भी घोषित किया जा चुका है. वर्तमान में नाहिद हसन कैराना से समाजवादी पार्टी के वर्तमान विधायक हैं एवं उनकी मां इसी क्षेत्र से पूर्व सांसद भी रह चुकी हैं.

आपको बता दें कि, नाहिद हसन ने जनवरी 2020 में अदालत में सरेंडर किया था, वो काफी समय से फरार चल रहे थे, और करीब एक महीने से अधिक समय के बाद उन्हें जमानत मिली थी, साथ ही फरवरी 2021 में यूपी पुलिस ने नाहिद हसन, उनकी मां और 38 अन्य लोगों पर गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की थी.

सपा ने नाहिद हसन का नाम शामली जिले की कैराना सीट के लिए दोबारा घोषित किया है. नाहिद हसन के खिलाफ पहले से ही पुलिस में कई आपराधिक मामले भी दर्ज हैं. बीजेपी ने सपा द्वारा नाहिद हसन को टिकट दिए जाने के फैसले को समाजवादी पार्टी का “जिन्नावाद” बताया है, साथ ही उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा है कि कैराना में पलायन के मास्टर माइंड नाहिद हसन को सपा ने अपना उम्मीदवार बनाया है.

Advertisements