BCCI को लम्बा चौड़ा पत्र लिख कोहली ने टेस्ट की कप्तानी से भी दिया इस्तीफ़ा जाने असल वज़ह

विराट कोहली (Virat Kohli) ने दक्षिण अफ्रीका दौरे पर टेस्ट सीरीज हारने के एक बाद ही टेस्ट कप्तानी से इस्तीफा दे दिया.

विराट कोहली (Virat Kohli) ने भारतीय टेस्ट टीम (Indian Cricket Team) की कप्तानी छोड़ दी है. उन्होंने दक्षिण अफ्रीका दौरे पर टेस्ट सीरीज हारने के एक बाद यह कदम उठाया. विराट कोहली ने ट्वीट कर कप्तानी से इस्तीफा दिया. तीन महीने में उनके हाथ से तीनों फॉर्मेट की कप्तानी चली गई. विराट कोहली ने नवंबर में टी20 में कप्तानी छोड़ी थी. इसके बाद दिसंबर में दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए टीम चुनने के वक्त वनडे की कप्तानी भी उनसे ले ली गई थी. अब उन्होंने टेस्ट कप्तान छोड़ दी. कोहली के इस्तीफे के बाद अटकलें हैं कि क्या टीम सेलेक्शन और बाकी कामों में अनदेखी के चलते उन्होंने पद छोड़ा? क्या नए कोच राहुल द्रविड़ के साथ उनकी पटरी नहीं बैठी? क्या वे खुद को साइडलाइन किए जाने से नाराज थे?

विराट कोहली ने अपने इस्तीफे में जो बयान दिया है उसमें इस तरफ इशारा किया है. उन्होंने कहा, ‘मैं जो कुछ भी करता हूं, हमेशा उसमें 120 प्रतिशत देने में विश्वास करता हूं और अगर मैं ऐसा नहीं कर सकता हूं तो मैं जानता हूं कि यह सही नहीं है. हर चीज को एक चरण पर रूकना पड़ता है और भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान के तौर पर अब मेरा समय हो गया है.’ यह बात किसी से छुपी हुई नहीं है कि काफी पिछले कुछ समय से विराट को वैसी टीम नहीं मिल रही थी जैसी उन्हें चाहिए थी.”

विराट कोहली ने अपने इस्तीफे में जो बयान दिया है उसमें इस तरफ इशारा किया है. उन्होंने कहा, ‘मैं जो कुछ भी करता हूं, हमेशा उसमें 120 प्रतिशत देने में विश्वास करता हूं और अगर मैं ऐसा नहीं कर सकता हूं तो मैं जानता हूं कि यह सही नहीं है. हर चीज को एक चरण पर रूकना पड़ता है और भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान के तौर पर अब मेरा समय हो गया है.’ यह बात किसी से छुपी हुई नहीं है कि काफी पिछले कुछ समय से विराट को वैसी टीम नहीं मिल रही थी जैसी उन्हें चाहिए थी.

सेलेक्टर्स से ऐसे उलझे

सेलेक्टर्स से उनकी तनातनी साफ दिख रही थी. साल 2021 में इंग्लैंड दौरे से यह बात सामने आई थी. तब चयनकर्ताओं ने अभिमन्यु ईश्वरन को रिजर्व ओपनर के रूप में भेजा था लेकिन टीम मैनेजमेंट ने उनमें भरोसा नहीं दिखाया था. उनकी जगह विराट कोहली और रवि शास्त्री ने पृथ्वी शॉ को मांगा था. इसके बाद टी20 वर्ल्ड कप में भी ऐसा ही कुछ देखने को मिला था. तब अश्विन को टीम में जगह मिली थी जबकि कोहली की कप्तानी में यह खिलाड़ी 2017 के बाद बाहर कर दिया था. साथ ही साल 2021 में मार्च-अप्रैल में कोहली ने कहा था कि टीम के पास वॉशिंगटन सुंदर के रूप में अच्छा विकल्प है.

 

Advertisements