Election In UP: करहल सीट पर भाजपा चलने जा रही बड़ा दांव, अखिलेश के सामने अपर्णा यादव को उतारने की तैयारी?

Election In UP: करहल सीट पर भाजपा चलने जा रही बड़ा दांव, अखिलेश के सामने अपर्णा यादव को उतारने की तैयारी?

लखनऊ। यूपी के विधानसभा चुनावों की पहले दौर की वोटिंग 10 फरवरी को होनी है। 7 मार्च तक 7 दौर में 403 सीटों के लिए वोटिंग होनी है। बीजेपी को दोबारा सत्ता में न आने देने के लिए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव मैदान में उतरे हैं। साथ ही वो चुनाव भी लड़ने जा रहे हैं। अखिलेश ने खुद के लिए मैनपुरी जिले की करहल सीट चुनी है। बीजेपी ने उन्हें इसी करहल सीट पर घेरने की तैयारी शुरू कर दी है।

बताया जा रहा है कि अखिलेश को करहल में घेरने के लिए बीजेपी उन्हीं के खानदान की बहू अपर्णा यादव को यहां से मैदान में उतार सकती है। अपर्णा भले ही जीत न सकें, लेकिन करहल से उनके मैदान में उतरने से अखिलेश यादव के लिए मैदान मारना आसान भी नहीं रहने वाला है।

बीजेपी ने करहल सीट के लिए अब तक किसी उम्मीदवार का एलान नहीं किया है। बीएसपी से यहां कुलदीप नारायण और कांग्रेस से ज्ञानवती यादव उम्मीदवार हैं। करहल से मैदान में उतरने के संकेत अपर्णा यादव ने भी शनिवार को एक न्यूज चैनल से बातचीत में दिए। अपर्णा ने कहा कि उन्होंने पिछला चुनाव लखनऊ की कैंट सीट से लड़ा था और अब भी वहां के लोगों की सेवा वो कर रही हैं। फिर भी बीजेपी अगर चाहेगी, तो वो करहल सीट से अखिलेश यादव के खिलाफ मैदान में उतर सकती हैं। अपर्णा ने कहा कि किस सीट से चुनाव लड़ूंगी, ये बीजेपी नेतृत्व तय करेगा।

अपर्णा ने ये भी इंटरव्यू में साफ कर दिया कि सपा छोड़कर बीजेपी में आने से उनके ससुर मुलायम सिंह यादव खफा नहीं हैं। अपर्णा ने कहा कि मेरे ससुरजी ने मुझे आशीर्वाद दिया है। चचेरे ससुर शिवपाल यादव के बारे में अपर्णा का कहना था कि उन्होंने हमेशा आगे बढ़ाने का काम किया। जो नसीहत वो दे रहे हैं, उसे खुद अमल में लाए होते, तो अपनी अलग पार्टी बनाने की नौबत न आती। बता दें कि बीजेपी ज्वॉइन करने के बाद अपर्णा ने कहा था कि वो राष्ट्रवाद और पीएम मोदी से प्रभावित हैं और इसी वजह से बीजेपी में आई हैं।