ब‍िहार में शराबबंदी का असर: लगातार तीन साल ‘गर्भवती’ रही थीं ‘भाभी जी’, पोल खुली तो सब हैरान

ब‍िहार में शराबबंदी का असर: लगातार तीन साल ‘गर्भवती’ रही थीं ‘भाभी जी’, पोल खुली तो सब हैरान

पटना,शराबबंदी लागू होने के बाद से लेकर लगातार इसको तोड़ने और अवैध शराब के कारोबार को बढ़ाने के लिए इससे जुड़े लोग नए नए तरीके इजाद कर रहे थे। इऩमें से कुछ फिल्मी तरीके थे यानी सिनेमा को देखकर सीखे गए तरीके तो कुछ एकदम इनोवेटिव आइडिया।

राजन कश्‍यप (पुल‍िस की ग‍िरफ्त में आया शराब माफ‍िया) ने बताया कि शराब की पैडलिंग में उसकी एक हिस्सेदार है जो दो-तीन जिलों में ऑपरेट करती है। उसने बताया कि कई महिलाएं इस जिले से दूसरे जिले में शाम में छोटे छोटे कंसाइनमेंट ले जाती हैं, कंसाइनमेंट भले ही छोटा हो लेकिन महिलाएँ इतनी ज्यादा होती हैं वो कुल मिलाकर हजारों लीटर रोज का कारोबार हो जाता है।

राजन की इस सूचना पर सभी बैरिकेड पर सतर्कता बढ़ा दी गई। संदिग्ध महिलाओँ की तलाश शुरु हो चुकी थी। दो दिन तक कुछ खास हाथ नहीं लगा। लेकिन इसी बीच एक पिकेट पुलिसकर्मी ने नोटिस किया कि एक महिला पिछले तीन दिनों से उस रास्ते से गुजर रही है, कभी उसके साथ कोई दूसरी महिला होती है तो कभी उसके साथ कम उम्र की लड़की, कभी रिक्शे पर कभी पैदल तो कभी मोटरसाइकिल पर।

18-20 की उम्र की ये खूबसूरत महिला थी। महिला इसलिए कहा क्यूंकि वो प्रेगनेंट थी। लिहाजा इस पुलिसकर्मी को उसे पहचानने में दिक्कत नहीं हो रही थी। तीसरे-चौथे दिन जब किसी दूसरी गर्भवती के साथ किसी मोटरसाइकिल पर जा रही थी तो उसी चेकपोस्ट पर पुलिसवाले ने कागज जांचने के नाम पर उसे रोका। दोनों औरतों की उम्र 20 के आसपास ही रही होगी। दोनों गर्भवती लग रहीं थीं और दोनों एक ही मोटरसाइकिल पर पीछे बैठी थीं।

बिहार के ज्यादातर जिलों में महिला पुलिस कर्मी की निहायत कमी है और चेकपोस्ट पर हर जगह जांच में तो उनको लगाने लायक संख्या बिल्कुल नहीं है। उस पुलिसकर्मी को इन महिलाओं के हाव-भाव कुछ अजीब लग रहे थे। कहां से आ रहे हैं, कहां जा रहे हैं ये मर्द कौन है, तुम दोनों कौन हो इसका सही सही जवाब ये नहीं दे पा रहे थे।

बिहार के ज्यादातर जिलों में महिला पुलिस कर्मी की निहायत कमी है और चेकपोस्ट पर हर जगह जांच में तो उनको लगाने लायक संख्या बिल्कुल नहीं है। उस पुलिसकर्मी को इन महिलाओं के हाव-भाव कुछ अजीब लग रहे थे। कहां से आ रहे हैं, कहां जा रहे हैं ये मर्द कौन है, तुम दोनों कौन हो इसका सही सही जवाब ये नहीं दे पा रहे थे।

बिना महिला पुलिसकर्मी के उन महिलाओँ की जांच भी नहीं की जा सकती थी लेकिन पुलिस की सही ट्रेनिंग हुई हो तो अपराधी को पकड़ना मुश्किल काम नहीं होता। उस युवा पुलिसवाले ने कई सवाल पूछते पूछते एक झटके में पूछ लिया किसके लिए तो तुमलोग काम करती हो। इस सवाल का उनको अँदाजा नही रहा होगा और एक के मुंह से निकल गया “भाभी जी”।

इन लड़कियों का इतना कहना था कि मोटसाइकिल चालक बगल से गुजरती एक बस में लटककर फरार हो गया । मोटरसाइकिल वहीं, लड़कियां या महिलाएं जो कहिए वो भी वहीं। अभी तक ये अकेला पुलिसकर्मी ही उनसे जूझ रहा था लेकिन जैसे ही मोटरसाइकिल चालक फरार हुआ कई दूसरे पुलिसवाले भी इस तरफ लपके। आला अधिकारियों को सूचना दी गई, मुख्यालय से महिला पुलिकर्मी बुलाई गई और जांच में पाया गया कि इन दोनों लड़कियों ने अपने पेट में शराब की बोतलें बांध रखीं थी। जिसकी कीमत थी तकरीबन 20 हजार रुपए।

पूछताछ में पता चला कि दिन भर में एक लड़की तकरीबन 60-80 हजार रुपये की शराब एक जिले से दूसरे जिले ले जाती है, ये लंबी दूरियां तय नहीं करती लेकिन शराब दूर दराज के जिलों तक पहुंचाई जाती हैँ। ये लीकर पैडलर के नए रंग थे।

[contact-form][contact-field label=”Name” type=”name” required=”true” /][contact-field label=”Email” type=”email” required=”true” /][contact-field label=”Website” type=”url” /][contact-field label=”Message” type=”textarea” /][/contact-form]