जानें आखिर क्यों और किसकी वज़ह से चुनाव से चंद दिनों पहले स्वामी प्रसाद मौर्या ने दिया बीजेपी से इस्तीफा

लखनऊ,दरअसल स्वामी प्रसाद मौर्य उत्तर प्रदेश सरकार के कामकाज से नाराज थे. 20 जून, 2021 को Zee News पर स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा था, ‘चुनाव बाद तय होगा सीएम कौन होगा, विधायक दल की बैठक में यह फैसला होगा. आलाकमान किसी और चेहरे को भी भेज सकता है, सीएम चेहरा योगी भी हो सकते हैं और कोई और भी हो सकता है, सब कुछ केन्द्रीय नेतृत्व को तय करना है l

मौर्य के बयान से साफ है कि उन्हें तब भी योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व पर भरोसा नहीं था और कामकाज को लेकर वह खफा चल रहे थे. दूसरी वजह यह है कि स्वामी प्रसाद मौर्य अपने बेटे अशोक के लिए विधान सभा का टिकट माँग रहे थे, बीजेपी देने को तैयार नहीं थी, क्योंकि स्वामी प्रसाद मौर्य खुद विधायक और मंत्री हैं और उनकी बेटी संघमित्रा मौर्य बदायूं लोक सभा सीट से बीजेपी सांसद हैं l

सूत्रों कि माने तो स्वामी प्रसाद मौर्या की बीजेपी के कुछ कद्दावर नेताओं से मनमुटाव भी चल रहा था जो उनके इस्तीफे की एक बड़ी वजह मना जा रहा है l पार्टी में उनको अपने कद को लेकर भी असंतोष था जिसको एक प्रमुख कारण बताया जा रहा है जिसके कारण उन्हें इस्तीफा देना पड़ा l

स्वामी प्रसाद मौर्य 2017 में यूपी विधान सभा चुनाव से पहले बीएसपी छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे. अब साल 2022 के यूपी चुनाव से पहले वह बीजेपी छोड़कर सपा में शामिल हो गए हैं.

Advertisements