क्या होते हैं इंटिमेसी डायरेक्टर, जो फिल्म में ‘हॉट’, ‘न्यूड’ या ‘सेक्स सीन’ शूट करते हैं?

मुंबई,‘कपूर एंड संस’ फेम डायरेक्टर शकुन बत्रा की नई फिल्म आ रही है ‘गहराइयां’. इस फिल्म में दीपिका पादुकोण, सिद्धांत चतुर्वेदी, अनन्या पांडे और धैर्य करवा जैसे एक्टर्स काम कर रहे हैं. पिछले दिनों इस फिल्म का एक टीज़र रिलीज़ किया गया. फिल्म अपने विषय को लेकर पहले ही चर्चा में थी. इस टीज़र के आखिर में क्रेडिट प्लेट आती है. जिस पर फिल्म से जुड़े तमाम लोगों को उनके काम के लिए क्रेडिट दिया गया है. उस प्लेट पर इंटिमेसी डायरेक्टर नाम का क्रेडिट दिखता है, जो यूक्रेनियन फिल्ममेकर डार गै को दिया गया है. इस चीज़ को पब्लिक की नज़र में ले आए राइटर असीम छाबड़ा. जिन्होंने इरफान, शशि कपूर और प्रियंका चोपड़ा जैसे स्टार्स की बायोग्रफी लिखी है.

शकुन बत्रा के इस कदम की हर ओर तारीफ हो रही है. मगर मेन बात ये है कि ये इंटिमेसी डायरेक्टर होता क्या है? आइए जानते हैं.अगर लिटरल मीनिंग पर जाएं, तो इंटिमेसी का अर्थ होता है अंतरंगता. किसी भी फिल्म या सीरीज़ में कथित ‘हॉट’, न्यूड या सेक्स सीन की शूटिंग बिना किसी गड़बड़ी के हो, इसकी ज़िम्मेदारी इंटिमेसी डायरेक्टर्स के कंधों पर होती है. मगर इंटिमेसी डायरेक्टर्स का काम सिर्फ इतना ही नहीं होता है. इंटिमेसी डायरेक्टर्स किसी फिल्म या प्रोजेक्ट में क्या-क्या करते हैं, ये हम क्रमवार तरीके से आपको नीचे बता रहे हैं-

इंटिमेसी डायरेक्टर्स का मुख्य काम शूटिंग के दौरान होता है. ये देखना कि दो एक्टर्स एक-दूसरे को किस तरह से फिज़िकली टच करेंगे. उनके बीच सेक्शुअल टेंशन, न्यूड या सिमुलेटेड सेक्स सीन कैसे शूट किया जाएगा. ताकि दोनों एक्टर्स उस चीज़ को लेकर कंफर्टेबल रहें. साथ ही फिल्ममेकर को अपने विज़न के साथ भी समझौता न करना पड़े.

अगर किसी सीन को लेकर एक्टर्स में हिचकिचाहट है, तो उनसे बात करके उनका नज़रिया समझा जा सके. उसे दूर करने के लिए ज़रूरी कदम उठाए जा सकें. या उस सीन को किसी और तरीके से शूट किया जा सके. बेसिकली एक्टर्स को पर्टिकुलर सीन्स के लिए कोच करने का काम इंटिमेसी डायरेक्टर्स का होता है.

इंटिमेसी डायरेक्टर्स को हायर किए जाने की एक वजह ये भी होती है कि किसी एक्टर के साथ कुछ गलत न हो. उन्हें कोई गलत तरीके से टच न करे या सीन शूट करते वक्त कैरीड अवे न हो.

Advertisements