कई जगह से चुनाव में वोट डालने वाले हो जाये सावधान नहीं तो होगी FIR

नई दिल्ली, भारत एक लोकतान्त्रिक देश है जहाँ सरकार का चुनाव वहाँ की जनता चुनावों के माध्यम से करती है l लेकिन जब चुनाव ही सही ना हो तो सरकार के सही होने की क्या गारंटी है l वैसे तो चुनाव में कई तरह की गड़बड़ होती है कुछ चुनावी तंत्र द्वारा तो कुछ प्रतिनिधियों द्वारा तो कुछ खुद जनता द्वारा l

देश के प्रत्येक नागरिक जो 18 वर्ष की आयु पूरी कर चुका है उसे पंचायत से लेकर लोकसभा तक के प्रत्यक्ष चुनावों में वोट डालने का क़ानूनी अधिकार है l भारत में चुनाव कराने के लिए संविधान के अनुच्छेद 324 के अनुसार एक चुनाव आयोग है जो भारत में लगभग सभी मुख्य चुनावों को संपन्न करता है l

Advertisements

चुनाव आयोग ही प्रत्येक व्यक्ति को उसका एक पहचान पत्र जारी करता है जिसे हम वोटर आईडी के नाम से जानते हैँ l इसी वोटर पहचान पत्र को दिखाकर कोई व्यक्ति चुनाव में अपना मत डाल सकता है l प्रत्येक व्यक्ति को केवल एक और एक ही चुनावी क्षेत्र से वोट डालने की अनुमति है लेकिन भारत जैसे विशाल देश में कुछ गड़बड़ियों के चलते कई लोग फायदा उठाकर कई जगह से अपना वोटर आईडी बनवा लेते है और कई जगह मतदाता बनकर वोट डालते है l

निष्पक्ष चुनावों के लिए एक ही व्यक्ति द्वारा कई जगह वोट डालना एक बहुत बड़ी समस्या है  l सरकार ने इस समस्या से निपटाने का एक हल निकला है l सरकार संसद में एक ऐसा विधेयक पेश करने जा रही है जिसमें सभी व्यक्ति के वोटर आईडी और आधार नम्बर को एक दूसरे से लिंक किया जायेगा l ऐसा होने पर चुनावों में फ़र्ज़ी मतदान की घटनाओं पर अवश्य ही कुछ रोक लगेगी l अब देखना होगा कि सरकार का यह कदम कितना कारगर होगा l

Advertisements
Advertisements